देश

हीट वेव से सावधान! तीन महीने जमकर सताएगी भीषण गर्मी, इन बातों का रखें ध्यान

नई दिल्ली। गर्मियां आ गई हैं। ऐसे में हीट वेव के कारण तबियत खराब हो सकती है. हीट वेव के कारण चक्कर आने लगते हैं। इसलिए आपको हीट वेव के दौरान अपनी सेहत का ध्यान रखना चाहिए। मौसम विभाग की मानें तो इस बार अप्रैल से जून तक भयानक हीटवेव का सामना करना पड़ेगा। भीषण गर्मी का असर मध्य और पश्चिम भागों पर सबसे बुरा प्रभाव देखने को मिल सकता है। राजस्थान, मध्य प्रदेश, ओडिशा, उत्तरी छत्तीसगढ़, गुजरात, महाराष्ट्र, उत्तरी कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में गर्मी का सबसे बुरा असर पड़ेगा।

मौसम विभाग के अनुसार इस साल अप्रैल से जून के बीच भयंकर गर्मी आपका जीना मुहाल करने वाली है। ऐसे में इन दौरान चलने हीटवेव (Heat wave safety tips) से अपना बचाव करना बेहद जरूरी है। अत्यधिक गर्मी और उमस बेहद असुविधाजनक हो सकती है और खासकर शिशुओं, बच्चों, गर्भवती महिलाओं और बुजुर्गों के लिए गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं की वजह बन सकती है। वेव चलिए जानते हैं हीट वेव से बचने के उपाय।

हीटवेव क्या है?

हीटवेव, जिसे लू भी कहा जाता है, तब चलती है जब तापमान लगातार कई दिनों तक सामान्य से अधिक रहता है। ह्यूमिडिटी यानी उमस के कारण ज्यादा गर्मी महसूस हो सकती है। हीट वेव के लक्षणों को नजरअंदाज न करें. इसमें डिहाइड्रेशन, चक्कर आना और थकावट शामिल है। इन लक्षणों के दिखने पर अपनी सेहत का खास ध्यान रखें।

भीषण गर्मी से ऐसे बचें

1. धूप से बचें

सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक धूप में निकलने से बचें, इस दौरान तापमान सबसे अधिक होता है। अगरआपको बाहर जाना है, तो छाता, टोपी और धूप का चश्मा पहनें। ढीले-ढाले और हल्के रंग के कपड़े पहनें जो सूरज की रोशनी को परावर्तित करते हैं।

2. तरल पदार्थों का सेवन बढ़ाएं

पानी, जूस, ORS घोल और अन्य तरल पदार्थों का सेवन नियमित रूप से करते रहें। ठंडे तरल पदार्थ जैसे कि लस्सी, छाछ, नींबू पानी, नारियल पानी आदि आपके शरीर को अंदर से कूल रखेंगे। प्यास लगने का इंतजार न करें, थोड़ी-थोड़ी देर में पानी पीते रहें, इससे आप हाइड्रेट रहेंगे। बाहर जाते समय हमेशा ठंडे पानी की बोतल अपने साथ रखें।

3. खानपान

गर्मियों में हल्का और पौष्टिक भोजन खाएं तले हुए और अत्यधिक मसालेदार खाने से परहेज करें। अपने खाने में दही, छाछ, फल, सब्जियां, सलाद आदि शामिल करें।

4. घर को भी रखें कूल

घर को ठंडा रखें, दिन के समय खिड़कियों और दरवाजों पर पर्दे लगाएं। सुबह और शाम के समय जब बाहर का तापमान कम हो जाए खिडकियां खोल दें।  ठंडे पानी से स्नान करें।

5. अन्य सावधानियां

  • शराब और कैफीन से बचें।
  • व्यायाम करें, लेकिन सुबह या शाम के समय जब तापमान कम होता है।
  • बच्चों, बुजुर्गों और गर्भवती महिलाओं का विशेष ध्यान रखें।
  • यदि आपको लू लगने के लक्षण दिखाई देते हैं, जैसे कि तेज बुखार, सिरदर्द, चक्कर आना, उल्टी आदि, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
.site-below-footer-wrap[data-section="section-below-footer-builder"] { margin-bottom: 40px;}