रायपुर

मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने की बड़ी घोषणा…कथा वाचक प्रदीप मिश्रा को राज्य अतिथि का दिया दर्जा

रायपुर। मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय सोमवार को मुंगेली के ग्राम चलान (चातरखार) में आयोजित 108 महाकुण्डीय यज्ञ, शिव महापुराण एवं विराट संत सम्मेलन में शामिल हुए। उन्होंने व्यासपीठ पर विराजमान प्रसिद्ध शिव महापुराण कथा वाचक प्रदीप मिश्रा का अभिनंदन किया और उन्हें नमन कर आशीर्वाद लिया। साथ ही शिव महापुराण आरती में शामिल होेकर प्रदेश की सुख, समृद्धि एवं खुशहाली की कामना की। मुख्यमंत्री साय ने कथा वाचक मिश्रा को राज्य अतिथि का दर्जा देने की भी घोषणा की।

मुख्यमंत्री साय ने श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश के लिए बड़े सौभाग्य की बात है कि मुंगेली जिले में 108 महाकुण्डीय यज्ञ शिव महापुराण एवं विराट संत सम्मेलन का आयोजन हो रहा है। जिसमें आज बड़ी संख्या में श्रद्धालु कथा सुनने पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि हमारा छत्तीसगढ़ माता कौशल्या की धरती है, भगवान राम हमारे भांचा है। अयोध्या में 22 जनवरी को जब नवनिर्मित राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा की गई, तो सबसे अधिक उत्साह छत्तीसगढ़ में देखने को मिला। उन्होंने कहा कि रामलला दर्शन योजना के तहत सरकारी खर्चे से रामभक्त अयोध्या में भगवान राम का दर्शन करेंगे। 05 मार्च को रायपुर से अयोध्या के लिए ट्रेन रवाना होगी। मुख्यमंत्री साय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की गारंटी पर विश्वास करके छत्तीसगढ़ की जनता ने हमारी सरकार बनाई है, उस पर खरा उतरने के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है।

उप मुख्यमंत्री अरूण साव ने कहा कि आज हम सभी के लिए सौभाग्य की बात है कि मुंगेली की इस धरती में इतना बड़ा आयोजन हो रहा है। भोले बाबा की महिमा से बड़ी संख्या में लोग एकत्रित हुए हैं, इससे ऐसा लग रहा है कि महाशिवरात्रि की शुरुआत हो गई है।

स्थानीय विधायक पुन्नूलाल मोहले ने कहा कि भक्ति की भावना से जीवन में सुख, शांति और समृद्धि की प्राप्ति होती हैै। संत समागम में साध्वी ऋतम्बरा जी, राजीव लोचन दास जी महाराज, साध्वी पुष्पांजली जी, शैलेषानंद जी महाराज सहित देश के विख्यात संत शामिल हुए। इस अवसर पर खेलकूद एवं युवा कल्याण, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री टंकराम वर्मा, संभागायुक्त श्रीमती शिखा राजपूत तिवारी, कलेक्टर राहुल देव, पुलिस अधीक्षक गिरिजा शंकर जायसवाल सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
.site-below-footer-wrap[data-section="section-below-footer-builder"] { margin-bottom: 40px;}