देश

क्या है ED का कानून : 3 समन किए दरकिनार फिर भी क्यों केजरीवाल नहीं हुए गिरफ्तार

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हाल ही में कथित शराब घोटाले की जांच के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा तीसरी बार बुलाए जाने के बाद एजेंसी के सामने पेश होने से इनकार कर दिया है। इसके बाद से इस बात को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं कि क्या अब ईडी केजरीवाल को गिरफ्तार करने जा रही है या चौथी बार समन भेजेगी। क्या ईडी कभी किसी मुख्यमंत्री को गिरफ्तार किया है? समन का पालन न करने पर क्या कहता है कानून?

क्या है पूरा मामला

बार एंड बेंच की रिपोर्ट के अनुसार, मनी लॉन्ड्रिंग विवाद में ईडी की यह जांच सीबीआई द्वारा 17 अगस्त, 2022 को दिल्ली की तत्कालीन आबकारी नीति में कथित अनियमितताओं के संबंध में दर्ज एक मामले से शुरू हुई है। सीबीआई ने यह मामला 20 जुलाई, 2022 को दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना द्वारा की गई शिकायत पर दर्ज किया गया था। इसके बाद ईडी ने 22 अगस्त, 2022 को आरोपी व्यक्तियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग एंगल पर मामला दर्ज किया।

इसमें यह आरोप लगाया गया है कि शराब नीति निर्माण के दौरान दिल्ली के पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और अन्य अज्ञात और अनाम निजी व्यक्तियों/संस्थाओं सहित आम आदमी पार्टी (आप) के नेताओं द्वारा एक आपराधिक साजिश रची गई थी। यह भी आरोप लगाया गया कि यह साजिश शराब नीति में “जानबूझकर” छोड़ी गई कुछ खामियों से उपजी है। कथित तौर पर टेंडर प्रक्रिया के बाद कुछ लाइसेंसधारियों और साजिशकर्ताओं को फायदा पहुंचाने के लिए ऐसा किया गया था।

सीबीआई ने इस मामले में अब तक 24 नवंबर 2022 और 25 अप्रैल 2023 को दो आरोपपत्र दायर किए हैं। दूसरी ओर, ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में एक मुख्य शिकायत और पांच पूरक शिकायतें दर्ज की हैं।

कटघरे में ‘आप’ नेता

ईडी द्वारा आरोपपत्र दाखिल किए जाने के साथ ही आम आदमी पार्टी (आप) नेता सिसोदिया और संजय सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है और फिलहाल वे न्यायिक हिरासत में हैं। उन्होंने बार-बार जमानत से राहत मांगी है, लेकिन उन्हें अब तक जमानत नहीं दी गई है। हालांकि, 4 जनवरी को संजय सिंह को अपनी राज्यसभा सदस्यता के नवीनीकरण के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने की अनुमति दी गई थी। केंद्रीय जांच एजेंसी द्वारा ‘आप’ सांसद संजय सिंह के सरकारी आवास पर छापेमारी के बाद 4 अक्टूबर, 2023 को उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। वह 13 अक्टूबर से न्यायिक हिरासत में हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
.site-below-footer-wrap[data-section="section-below-footer-builder"] { margin-bottom: 40px;}