रायपुर

दिवाली पर कार, बाइक खरीदने वालों को मिल रही है भारी छूट

रायपुर। अगर आप अपनी मनपसंद दोपहिया व चारपहिया लेने की सोच रहे है और फाइनेंस कराने वाले हैं तो आपके लिए फाइनेंस कंपनियां काफी अच्छा आफर लेकर आई हुई है। इन आफरों के तहत अब फाइनेंस वाले उपभोक्ताओं को अपनी आरसी से हाइपोथिकेशन हटाने बैंक, फाइनेंस कंपनी या आरटीओ के चक्कर नहीं लगाने होंगे। घर बैठे ही उपभोक्ता हाइपोथिकेशन से जुड़ी सेवाओं का लाभ ले सकेंगे।

बताया जा रहा है कि प्रदेश में लगभग 75 बैंकों, वित्तीय संस्थानों और गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) को अपनी हाइपोथिकेशन सेवाओं के लिए एकीकृत किया गया है। राडा के सचिव कैलाश खेमानी ने कहा कि फाइनेंस कंपनियों के इन आफरों को उपभोक्ताओं द्वारा काफी ज्यादा पसंद किया जा रहा है, ये सारे आफर उनके फायदे के लिए ही हैं।

मान लीजिए आपने पांच लाख रुपये में कोई वाहन खरीदा है और चार लाख रुपये फाइनेंस है। ये चार लाख रुपये का फाइनेंस आपने तीन वर्षों के लिए लिया है। अभी तक फाइनेंस होने के कारण आपकी रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट में ही हाइपोथिकेशन लिखा जाता था और जब आपकी ईएमआइ पूरी हो जाती थी।

उस समय भी आपके रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट में हाइपोथिकेशन लिखा रहता है। इसे हटाने के लिए ही आपको बैंक और आरटीओ के चक्कर लगाने पड़ते हैं। अब फाइनेंस कंपनियों के आफर के तहत फाइनेंस कंपनी द्वारा ही आरटीओ को इसकी जानकारी देगी कि आपका लोन समाप्त हो चुका है और हाइपोथिकेशन हटा दिया जाए।

यह होता है हाइपोथिकेशन
जब आप कोई भी वाहन फाइनेंस में खरीदते है,तो आपके रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट पर हाइपोथिकेशन दर्ज हो जाता है। इसकी जानकारी आरसी में भी होने के कारण आपके द्वारा वाहन बेच पाना संभव नहीं हो पाता। इसलिए अगर वाहन बेचना है तो आपको हाइपोथिकेशन हटाना जरूरी होता है।

कारों में 70 हजार तक छूट, दोपहिया में लोएस्ट डाउन पेमेंट
कारों में इन दिनों 70 हजार तक छूट दी जा रही है। इसके साथ ही दोपहिया में लोएस्ट डाउन पेमेंट और कम से कम ब्याज दर पर गाड़ी उपलब्ध कराई जा रही है। उपभोक्ता भी इसे काफी पसंद कर रहे है,इसके चलते ही इस वर्ष त्योहारी सीजन में आटोमोबाइल की रफ्तार भी जबरदस्त हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!
.site-below-footer-wrap[data-section="section-below-footer-builder"] { margin-bottom: 40px;}